शर्मनाक: कॉलेज में सरस्वती पूजन के नाम नचवाया बार डांसर को, तस्वीरें देख आप भी बंद कर लेंगे आँखें

आज कल की नई युवा पीढ़ी दिन प्रतिदिन बिगढ़ती जा रही हैं. ये एक कड़वा सच हैं कि आज कल के युवाओं में ठरक कुछ ज्यादा ही भरी हैं. ये लोग महिलाओं की इज्जत करना नहीं जानते हैं और साथ ही हमारे कल्चर और संकृति की धज्जियाँ उड़ाते रहते हैं. आप लोगो ने आज तक इन्टरनेट पर कई अश्लील डांस विडियो को वायरल होते देखा होगा. वैसे तो डांस में कोई बुराई नहीं हैं लेकिन यदि इसे गलत उद्देश्य से और लोगो को उकसाने के लिए किया जाए तो ये हमारे कल्चर के हिसाब से बुरी बात हो जाती हैं. एक बार इस तरह के डांस प्राइवेट में चार दिवारी के बीच हो तो भी चलता हैं. लेकिन पटना के एक कॉलेज ने तो ऐसे मौके पर बार डांसर को नचवा दिया जिसके बारे में सुन आपके होश उड़ जाएंगे. आइए विस्तार से जाने क्या हैं पूरा मामला…

जैसा कि आप सभी जानते हैं. हाल ही में देशभर में बसंत पंचमी का त्यौहार बड़ी धूम धाम से मनाया गया हैं. इस दिन सरस्वती माँ की पूजा करने का रिवाज होता हैं. ऐसे में कई ऑफिस, कॉलेज और स्कूलों में सरस्वती जी की पूजा की गई थी. लेकिन पटना के एक प्रतिष्ठित बी एन कॉलेज में जिस प्रकार से सरस्वती पूजा की गई हैं वो काफी शर्मनाक था. जब आप लोग यहाँ हुई सरस्वती पूजा की तस्वीरें देखोगे तो आपके भी होश उड़ जाएंगे.

दरसल पटना के बीएन कॉलेज में देर रात सरस्वती पूजन का आयोजन किया गया था. लेकिन यहाँ इस पूजन कार्यक्रम के नाम पर स्टेज पर कम कपड़े पहनी बार डांसर को नचाया गया. इस तरह से सरस्वती पूजन को मानाने से ना सिर्फ छात्रों की गंदी सोच उजागर हुई हैं बल्कि इस तरह का कार्यक्रम कॉलेज प्रशासन पर भी कई सवालियां निशान उठाता हैं.

आप फोटो में साफ देख सकते हैं कि स्टेज पर बीएन कॉलेज हॉस्टल में सरस्वती पूजा समिति का बैनर लगा है, ऐसे में यहाँ धार्मिक कार्य होने की बजाए इस तरह का अश्लील रंगा रंग कार्यक्रम चलाया गया. जब ये बार डांसर स्टेज पर आकर ठुमके लगाने लगी तो वहां मौजूद सभी स्टूडेंट्स खूब शोर मचाने लगे और उनके साथ वो भी नाचने गाने लगे. इतना ही नहीं वहां खड़े कई लोग तो इस अश्लील डांस का विडियो भी अपने मोबाइल में बनाने लगे. इसे देख ऐसा लगता हैं कि आज की जेनरेशन में बस तीन ही चीजे अहम रह गई हैं – लड़की, मोबाइल, और विडियो.

आपको जान हैरानी होगी कि पटना का ये प्रसिद्द बीएन कॉलेज एसएसपी ऑफिस से आधे किलोमीटर की दूरी पर एवं गांधी मैदान थाने से सिर्फ 100 मीटर की दुरी पर स्थित हैं. लेकिन इसके बावजूद धार्मिक कार्यक्रम के नाम पर ऐसा प्रोग्राम करने से किसी ने इन्हें नहीं रोका. इस डांस को देखने के लिए सिर्फ स्टूडेंट्स ही उत्सुक नहीं थे बल्कि कॉलेज प्रशासन के कुछ लोग भी यहाँ दिखाई दिए.  अब सोचने वाली बात यह हैं कि इन कॉलेज स्टूडेंट्स को इस तरह के कार्यक्रम करने की परमिशन किसने और कैसे दे दी. इधर सोशल मीडिया पर इस खबर के वायरल होते ही लोग भी सरस्वती पूजन के नाम पर ऐसा कार्यक्रम करने को गलत ठहरा रहे हैं.