गुस्सैल गाय से भाई को बचाने के लिए खुद जान पर खेल गई 8 वर्षीय बहन, देखे Video

बच्चे सबसे ज्यादा मासूम होते हैं. इनके अन्दर स्वार्थ की कोई भावना नहीं होती हैं. यही कारण हैं कि इनका मन सबसे साफ़ और दिल विशाल होता हैं. अपनी इसी खूबी के चलते कई बार ये ऐसे कारनामे कर जाते हैं जिन्हें देख हम बड़े लोग भी हैरान रह जाते हैं. शायद यही वजह हैं कि कई बार भारतीय बच्चों को किसी की जान बचाने के लिए कई बहादुरी के अवार्ड भी मिल चुके है. इसी कड़ी में आज हम आपको एक ऐसी बहादुर बहन से मिलाने जा रहे हैं जो अपने भाई की जान बचाने की खातिर खुद अपनी जान पर खेल गई.

दरअसल कर्णाटक में एक 8 वर्षीय बहन अपने 4 वर्षीय भाई के साथ घर के बाहर खेल रही थी. तभी एक गुस्सैल गाय ने इस 4 साल के छोटे मासूम को अपना निशाना बनाना चाहा. लेकिन उसकी बड़ी बहन की बहादुरी और समझदारी के चलते छोटे भाई की जान बच गई. आइए विस्तार से जाने क्या हैं पूरा मामला…

जानकारी के मुताबिक ये पूरी घटना कर्णाटक की हैं. यहाँ 8 साल की लड़की आरती अपने 4 साल के बाई कार्तिक के साथ घर के बाहर ही खेल रही थी. कार्तिक खिलौना गाड़ी पर बैठा था और आरती उस गाड़ी को पीछे से धक्का दे रही थी. दोनों भाई बहन अपने खेल में व्यस्त थे कि तभी पास की सड़क से एक गाय दौड़ती हुई आई. गाय को देखने में लग रहा था मानो वो बहुत गुस्से में हैं और काफी डिस्टर्ब भी हैं.

गुस्से में पिलपिलाई गाय की नज़र अचानक घर के बाहर खेल रहे बच्चों पर पड़ी. शायद खिलौना गाड़ी की वजह से उसने उन्हें खतरा समझ लिया. गाय ने तेज़ी से भागते हुए छोटे कार्तिक पर हमला करते हुए अपना निशाना बनाया. लेकिन इसके पहले गाय कार्तिक पर हमला कर पाती बहन आरती ने समझदारी दिखाई और खिलौना गाड़ी तेजी से आगे बड़ाई. इसे बाद जैसे ही गुस्सैल गाय कार्तिक के नजदीक आई बहन आरती कार्तिक को उठाकर गाय की तरफ पीठ कर के खड़ी हो गई. इस तरह जब गाय ने हमला किया गाय की मार कार्तिक को नहीं बल्कि उसकी बहन आरती को लगी. आरती अपने भाई को बचाने के लिए उसकी शील्ड बन गई.

वो तो गरिमत रही कि तभी घर में से एक आदमी बाहर आया और गाय को बच्चो पर हमला करता देख उसे भगा दिया. गाय जैसे ही वहां से हटी बहन आरती ने फुर्ती दिखाई और भाई को लेकर सीधा घर के अन्दर चली गई. इसके बाद गाय एक बार फिर हमला करने लौटी थी लेकिन इस बार आदमी ने घर में से एक डंडा ले आया और गाय को वहां से भगा दिया.

यदि उस समय बहन आरती समझदारी और बहादुरी नहीं दिखाती तो उसके भाई कार्तिक को कई गंभीर चोटें लग सकती थी. अपनी बहन की बहादुरी की वजह से आज एक भाई की जान बच गई. इस एक्ट ने साबित कर दिया कि बच्चे सच में भगवान की देन होते हैं. आरती की इस बहादुरी को हमारा सत सत नमन.

इस पूरी घटना का विडियो आप यहाँ देख सकते हैं.

देखे विडियो: