अभी अभी: सलमान खान के बाद बॉलीवुड का ये मशहूर सितारा जा सकता हैं जेल

दोस्तों ऐसा कहा जाता हैं कि कानून सबके लिए सामान होता हैं. इस बात से बिलकुल भी फर्क नहीं पड़ता हैं कि आप कितने बड़े व्यक्ति हैं. अमीर, गरीब, फेमस या अंजान हर किसी की नज़रों में कानून सामान होता हैं. हालाँकि कभी कभी कुछ लोगो को ये डाउट या फिर कहे शिकायत जरूर रहती हैं कि कई बार पैसा और फेम के चलते इंसान को अपराध करने के बावजूद इसका फायदा मिल जाता हैं. उदाहरण के लिए हाल ही में हुए सलमान खान के केस को ही ले लीजिए. काला हिरण शिकार मामले में दोष करार होने में पुरे 20 साल का समय लग गया. इसके बाद सलमान जेल गए भी तो दो दिन में ही जमानत लेकर बाहर आए गए बाहर आ गए. अब उनकी अगली पेशी मई में हैं जहाँ आगे की कारवाई की जाएगी.

खैर आज हम आपको सलमान खान के बारे में नहीं बल्कि बॉलीवुड के एक और मशहूर सितारे के बारे में बताने जा रहे हैं. ये मशहूर सितारा अपने कद में चाहे छोटा हो लेकिन अभिनय और पॉपुलैरिटी के मामले में सबका बाप हैं. ये जब स्क्रीन के सामने आता हैं तो लोग अपना पेट पकड़ पकड़ के हसने लगते हैं. अब तक आप समझ ही गए होंगे कि हम यहाँ बॉलीवुड कलाकार राजपाल यादव की बात कर रहे हैं. राजपाल यादव फिल्मो में कॉमिक रोल करने के लिए जाने जाते हैं. लोग उन्हें फिल्मो में हास्य कलाकार के रूप में देखना पसंद करते हैं. यदि उनकी फिल्मो की बात की जाए तो ढोल, चुप चुप के, भूल भुलैया, खट्टा मीठा इत्यादि में उनके अभिनय की जबरदस्त तारीफ़ हुई थी.

लेकिन अब लग रहा हैं कि सलमान की तरह राजपाल यादव भी बुरे वक़्त से गुजर रहे हैं. दरअसल कुछ साल पहले राजपाल यादव पर 5 करोड़ की धोखाधड़ी का आरोप लगा था. अब इस मामले में कड़कड़डूमा कोर्ट ने राजपाल यादव सहित उनकी पत्नी और कंपनी को दोषी पाया हैं. आपकी जानकारी के लिए बता दे कि राजपाल यादव और दो अन्य लोगो ने साल 2019 में 5 करोड़ रुपए की राशि उधार ली थी. वे ये राशि नहीं चुका पाए इसलिए पीड़ित व्यक्ति ने उन पर केस ठीक दिया था. अब इसी मामले में कोर्ट ने उन्हें दोषी ठहराया हैं.

मीडिया सूत्रों की माने तो राजपाल यादव ने खुद के लिए ‘अता पता लापता’ नाम की एक फिल्म बनाई थी. इसी फिल्म के लिए उन्होंने दिल्ली के रहने वाले एक व्यापारी से 5 करोड़ रुपए उधार लिए थे. जब फिल्म रिलीज हो गई तो राजपाल यादव ने व्यापारी को उधार लिए पैसे वापस ही नहीं किए. इस सिलसिले में उन्हें कोर्ट से कई समन भेजे गए जिन्हें उन्होंने नज़रअंदाज़ किया. यहाँ तक कि उनके वकील ने तो कोर्ट को एक गलत हलफनाम भी भेज दिया था. बताया जा रहा हैं कि इन सभी बातों से अदालत काफी नाराज़ हुई.

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि इसी मामले में दिल्ली हाई कोर्ट ने 2013 में राजपाल यादव को 10 दिनों की न्यायिक हिरासत में भी भेज था. इस मामले में दोष पाए गए अपराधियों को सजा का एलान 23 अप्रैल को हो सकता हैं.