यदि घर में गीजर लगा है तो हो जाएँ सावधान : बाथरूम में गीजर की गैस चढ़ने से 14 वर्षीय बच्चे की गयी जान…

आज हम आप के लिए एक ऐसी पोस्ट ले कर आये है जिसको पढने के बाद आप बहुत मायूस हो सकते है सोचिये अगर आपका लाडला बेटा आपको छोड़ कर चला जाये तो आप कैसा महसूस करेंगे आपके ऊपर तो दुखो का पहाड़ टूट पड़ेगा| ऐसी ही एक घटना जिसमे की एक 14 वर्षीय लड़का जिसका की नाम मैक्स है दोस्तों के साथ होली खेलने के बाद वह अपने घर पर नहाने के लिए गया| नहाते वक़्त उस 14 वर्षीय बालक की गीजर की गैस चढ़ने से मौत हो गई। मृतक मैक्स पुत्र सोनू ब्रह्मर्षि मिशन स्कूल के नौंवी कक्षा का छात्र था।

जिस स्द्समय यह दुर्घटना हुई उसका पूरा परिवार हनुमानगढ़ रोड स्थित राधा स्वामी सत्संग घर में सत्संग सुनने के लिए गया था। शुक्रवार देर शाम मैक्स का अंतिम संस्कार किया गया, जहां सैकडों लोगों ने उसे नम आंखों से अंतिम विदाई दी। मैक्स काफी मिलनसार और परिवार में काफी लाडला था। उसका एक छोटा भाई भी है।

डीएवी कॉलेज के बाहर नाइस रिफ्रेशमेंट स्टोर के संचालक सोनू कवातड़ा का बड़ा बेटा मैक्स शुक्रवार को स्कूली दोस्तों के साथ होली खेलने के बाद अपने घर पर पहुंचा तो उस समय घर पर कोई भी नहीं था। पड़ोसियों से घर पर लगे ताले की चाबी लेने के बाद करीब 12 बजे वो घर पर चला गया। चाबी लेने से पहले उसने पड़ोसियों से नहाने की बात कही और 12 बजे से 3 बजे के बीच किसी समय बाथरूम में नहाने के लिए चला गया।

करीब  3 बजे राधा स्वामी सत्संग सुनने के बाद जब उसके परिजन घर पर पहुंचे और माता-पिता ने घंटी बजाई, जब कोई जवाब नहीं आया तो परिजनों को शक हुआ तो उन्होंने छत फांदकर ऊपर से घर में घुस गए और जब अंदर देखा तो पाया कि बाथरूम का दरवाजा बंद था और अंदर से पानी टपकने की आवाजें आ रहीं थीं। मैक्स को आवाजें लगाईं गईं लेकिन उसने कोई जवाब नहीं दिया। इस दौरान परिजनों ने बाथरूम का दरवाजा तोड़ दिया, लेकिन तब तक वह भगवन को प्यारा हो चूका था इसके बाद उसको स्थानीय सरकारी अस्पताल ले जाया गया। जहां डाक्टरों ने मैक्स को मृत घोषित कर दिया, उसकी मौत का कारण गैस गीजर की गैस का चढ़ाना सामने आया है।

अधिकतर ऐसे मामलों में मौत का कारण ऑक्सीजन की कमी होता है, जब भी किसी बाथरूम में कोई भी गैस गीजर लगाता है तो वहां हवा का प्रबंध होना जरूरी है। क्योंकि गैस गीजर की पाइप लीकेज होने के बाद हवा का प्रबंध न हो तो ऑक्सीजन की जगह कार्बन मोनो ऑक्साइड मिलनी शुरू हो जाती है, जिससे किसी की भी तुरंत मौत हो सकती है।

इसलिए विशेष ध्यान रखें कि बाथरूम में ऑक्सीजन जाने के लिए हवा का प्रबंध जरुर करे खबरों के मुताबिक मैक्स की मां इतनी बेसुध हो चुकी थी कि वो चार-पांच बार बेहोश हो गई, लेकिन लोगों ने उसको काफी मुश्किल से संभाला। मैक्स के स्कूल में शनिवार को मैक्स की आत्मिक शांति हेतु शोक प्रकट किया है। स्कूल के प्रिंसीपल नंद किशोर ने कहा कि इस दुख को वो भुला नहीं सकते, मैक्स पढ़ाई के साथ-साथ खेलों में भागीदारी लेता था।