जन्मदिन पर तिहरा शतक ठोक खुद को दिया ऐतिहासिक तोहफा, भारतीय कप्तान के रिकॉर्ड्स खतरे में

क्रिकेट का नाम दुनियाभर के मशहूर खेलों की सूची में लिया जाता है, बताना चाहेंगे की क्रिकेट के मैदान में खेलते हुए शतक लगाना बड़ी बात मानी जाती है लेकिन यदि कोई बल्लेबाज उम्दा खेल का प्रदर्शन करते हुए शतक को दोहरे शतक और फिर दोहरे को तीसरे शतक में बदल दे तो निश्चित रूप से वो स्टार खिलाड़ी बन जाता है। ऐसा ही एक नया खिलाड़ी भारत को हिमाचल प्रदेश से मिला है।

बता दे की हिमाचल के ओपनिंग बल्लेबाज प्रशांत चोपड़ा ने रणजी ट्रॉफी के पहले दिन पंजाब के खिलाफ 289 गेंदों में 37 चौकों और एक छक्के की मदद से शानदार 271 रन की जोरदार पारी खेलते हुए भारतीय टीम के बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा को पछाड़ नया इतिहास रच दिया था। सिर्फ इतना ही नहीं अगले दिन खेल को जारी रखते हुए प्रशांत ने महज 318 गेंदों में अपना तिहरा शतक पूरा कर एक नया रिकॉर्ड बड़ा डाला, उन्होने अपनी 338 रन की पारी में उन्होंने 43 चौके और 1 छक्का लगाया।

बताना चाहेंगे की प्रथम श्रेणी क्रिकेट में भाऊसाहेब निंबालकर के बाद किसी भी भारतीय बल्लेबाज द्वारा एक दिन में बनाया गया सबसे बड़ा स्कोर है। जानकारी है की निंबालकर ने 1948-49 में महाराष्ट्र के लिए खेली गई अपनी 443 रन की शानदार पारी में एक दिन में 277 रन बनाए थे। चोपड़ा ने खेल के दूसरे दिन अपना तिहरा शतक भी पूरा कर लिया। आपको बता दे की कल 7 तारीख को जब उन्होने अपना तिहरा शतक लगाया तो उस दिन उनका जन्मदिन भी था जिसे उन्होंने यादगार बना लिया है। अपने जन्मदिन पर तिहरा शतक लगाने वाले प्रशांत चोपड़ा दुनिया के तीसरे बल्लेबाज बन गए हैं।

प्रशांत से पहले 1962 में कोलिन कॉड्रे और रमन लांबा ने 1995 में प्रथम श्रेणी क्रिकेट में खेलते अपने जन्मदिन के दिन ही तिहरा शतक लगाया है। बताना चाहेंगे की चोपड़ा ने अपने 25वें जन्मदिन पर तिहरा शतक जड़ा। बताया जा रहा है की तत्काल भारतीय कप्तान विराट कोहली शतक के मामले में बाकी सभी खीलड़ियों से काफी तेजी से आगे बढ़ रहे हैं, मगर अचानक से प्रशांत का नाम सामने आने से ऐसा लग रहा है की वह दिन दूर नहीं जब उन्हें भारतीय टीम में खेलने का मौका मिले।