बुरी खबर: आईपीएल के दौरान इस दिग्‍गज क्रिकेटर का हुआ निधन, आज नम आंखों के साथ खेला जाएगा मैच

हम सभी जानते हैं कि आज के समय में हर कोई क्रिकेट को काफी पसंद करता है यही कारण है कि आजकल क्रिकेटर का क्रेज अभिनेताओं की तरह छाया रहता है। यही कारण है कि ये सभी क्रिकेटर अब एक सेलिब्रिटी की तरह जीवन जी रहे हें। इनकी फैन फॉलोविंग एक सेलिब्रिटी की तरह हो गई है जिसकी वजह से इनसे जुड़ी छोटी से छोटी बातें सामने आ जाती है आज भी एक ऐसी ही खबर सामने आई जो कि क्रिकेटर से ही जुड़ह है। जी हां आपको बता दें कि ये एक दुखद खबर है जिसे पढ़कर आपकी आंखें भर आएंगी। जी हां जानकारी के लिए बता दें कि क्रिकेट प्र‍ेमीयों के लिए ये बुरी खबर है।

बता दें कि अभी अभी खबर मिली है कि क्रिकेट जगत का एक दिग्गज खिलाडी का अचानक निधन हो गया जिसकी वजह से पूरा क्रिकेट जगत गम में डूबा है। जानकारी के लिए बता दें कि हम जिस क्रिकेटर की बात कर रहे हैं वो भारतीय टीम के पूर्व क्रिकेटर राजेन्द्र पाल है जो अब हमारे बीच नहीं रहे। बताया जा रहा है कि राजेन्द्र पाल का देहरादून के महंत इंदिरेश अस्पताल में निधन हो गया है और अब वो इस दुनिया में नहीं रहे। 81 साल की उम्र में इस तरह से छोड़कर जाना वाकई दुखद है।

बता दें कि करीब 4 दिन पहले ही पूर्व क्रिकेटर राजेन्द्र पाल को दिल का दौरा पड़ा था जिसके वजह से उन्‍हें महंत इंदिरेश अस्पताल में भर्ती करवाया गया था वहां उनकी स्थिती गंभीर थी लेकिन कुछ समय बाद ही अस्‍पताल में ही उन्‍होंने अंतिम सांस ली। हार्ट अटैक के बाद उन्हें अस्पताल में वेंटीलेटर पर रखा हुआ था। बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत भी उनकी सलामती की जानकारी के लिए अस्पताल गये थे और उनके स्वास्थ्य के बारे में पूछा था। डॉक्टरों ने मुख्यमंत्री को बताया कि राजेंद्र पाल के फेफड़ों और किडनी ने काम करना बंद कर दिया है।

आपकी जानकारी के लिए बता दे की पूर्व क्रिकेटर राजेन्द्र पाल जिन्होंने भारतीय राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के लिए 1 टेस्ट मैच खेला है और इन्हें 6 मई को दिल का दौरा पड़ा था जिसके बाद देहरादून में इन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया था, लेकिन उनकी ि‍स्थिती में सुधार नहीं हो सका। बताते चलें कि वर्ष 1964 में इंग्लैंड के खिलाफ खेली गई टेस्ट सीरीज में पाल भारतीय क्रिकेट टीम का हिस्सा रहे थे। उन्होंने 98 फर्स्ट क्लास मैच इनिंग खेली है। राजेंद्र पाल ने 1046 रन और 337 विकेट भी झटके है। वे यूनाइटेड क्रिकेट ऑफ एसोसिएशन के सचिव थे और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत इसी एसोसिएशन के अध्यक्ष हैं।

एसोसिएशन के सदस्य रोहित चौहान के अनुसार, पिछले तीन दिन से उनकी हालत स्थिर बनी हुई थी और उसमें कोई सुधार नहीं हो रहा था। मुख्यमंत्री रावत ने जब उनका हाथ पकड़ा तो उन्होंने आंखें खोली थीं। वे अपने पीछे दो बेटे दीपक और विवेक और पत्नी को छोड़ गए हैं। पाल स्टेट बैंक ऑफ पटियाला से रिटायर हुए थे।

शिमला बाईपास रोड स्थित प्रकाश लोक से पाल का पार्थिव शरीर लक्खीबाग श्मशान घाट ले जाया जाएगा। राजेंद्र पाल की मृत्यु उत्तराखंड और देश भर के क्रिकेट प्रेमियों के लिए अपूर्णीय क्षति है। बहरहाल आईपीएल का ये समय चल रहा है और इस दौरान ऐसी खबर हर किसी को अंदर से झकझोर दिया है।