बॉडीगार्ड हमेशा अपनी आंखों पर क्‍यों लगाए रहते हैं काला चश्‍मा, जानें क्‍या है इसके पीछे की वजह

वैसे तो आपने कई बार फिल्‍मों में या फिर असल जिंदगी में भी देखा होगा कि जितने भी वीआईपी लोगों के सिक्‍युरिटी गार्ड या फिर बॉडीगार्ड होते हैं वो हमेशा काला रंग का चश्‍मा पहने होते हैं। वहीं आपने ये भी देखा होगा कि कुछ लोगों के साथ ए‍क बॉडीगार्ड चलते हैं तो कुछ के साथ सिक्यॉरिटी गार्ड की पूरी फौज चलती है।

लेकिन आपने कभी सोचा है कि इन बॉडीगार्ड और सिक्यॉरिटी गार्ड आखिर काला ही चश्‍मा क्‍यों पहनते हैं। हो सकता है कि ये बात आपके दिमाग में घूमता भी होगा लेकिन कभी इसका जवाब मिल भी नहीं पाता होगा। तो आज हम आपको इस सवाल का जवाब देने जा रहे हैं आइए जानते हैं आखिर सुरक्षाकर्मी क्यों लगाते हैं काला चश्मा।

दरअसल सिक्यॉरिटी गार्ड के पास आंखें एक ऐसा साधन होता है जो कि दुश्मन को ही भांप सकता है। वहीं इनकी ट्रेनिंग भी ऐसी होती है कि वह किसी की भी आंखें और शारीरिक भाषा आसानी से पढ़ लेते हैं जिनकी वजह से उन्हें दुश्‍मन के बारे में भांपने में समय नहीं लगता है। सिक्यॉरिटी गार्ड सनग्लास इसलिए लगाते हैं कि दुश्मन की हरक्कत का पता चलने के बाद वह उसे रूकने में यह काले चश्में सुरक्षाकर्मी की मदद करते हैं।

सबसे खास बात बता दें कि सिक्‍योरिटी गार्ड ऐसे खड़े होते हैं जैसे वो कहीं और देख रहे हैं लेकिन असल में वो कहां देख रहे होते हैं ये आप नहीं पता कर सकते हैं। इसलिए वो सनग्लास का सहारा लेते हैं। सुरक्षाकर्मी सबसे इस बात को छुपा कर रखते हैं कि वह कहां पर और किस पर नजर रख रहे हैं।

वहीं एक वजह ये भी है कि अगर आपने कभी अनुभव किया होगा कि आपके सामने अचानक से विस्फोट होता है, या फिर झटका लगता है या फिर गोलियां चलने लगती हैं तो कुछ देर के लिए आपकी आंखें बंद हो जाती हैं ये तो स्वाभाविक भी है लेकिन इन सुरक्षाकर्मी की हर हालत में आंखे खुली रहती है।